aeon coin

हमारे अध्यक्ष

मा. श्री राजेश भैय्याजी झाड़े (पाटील)

जन्म : 24:01:1968

शिक्षा : बी. कॉम.

सेवा क्षेत्र: समाजसेवा,शिक्षा,राजनीति,परोपकारी,धर्मांद कार्य

निवास :झाड़े भवन
छापरू नगर चौक
सेन्ट्रल ऐवेन्यू रोड़ नागपुर पिन -440008

व्यक्तित्व और कृतित्व के धनी…

व्यक्तिमत्व :

                   समाजसेवा का क्षेत्र हो या राजनीति के दायित्विक कार्य हर क्षेत्र में एक अलग पहचान के पर्याय बनकर तन -मन-धन से सभी कार्यों को बखूबी निष्पादित करने में श्री राजेशजी झाड़े ने अनेक महत्वपूर्ण सफलतम परिभाषायें लिखी है। समाज के प्रति एक सर्वहारा दु:ख,ग़रीब,असहाय,निशक्त,कमज़ोर स्वजातीय बंधुओं की समस्याओं के त्वरित निराकरण के प्रति हर संभव कोशिश ओर प्रयास उनका एकमेव मकसद्‌‌ ओर जीवन ध्येय भी है। तमाम मुश्किलों के बावजूद उन्होंनें अपने हर एक प्रतिद्वंदियों को वैचारिक एवं कार्यशैली रूप से मात दी है। यही कारण है कि मा.श्री राजेशजी झाड़े आज एक व्यक्ति ना होकर समाज संगठन की रीढ़ बनकर हर किसी के चहेते बनकर सबके साथ,सबके विकास में सहभागी रूप से खड़े रहते है। युवाओं के उद्यम की बात हो या कृषिगत कार्यों से जुड़ी समस्या,सबके प्रति न्यायिक भाव ही उनकी सदाचारिक कार्यशैली है। समाज के वरिष्ठतम समाजसेवक हो या युवा पीढ़ी के नवयुवक समाज कार्यकर्ता या महिला सशक्तिकरण के कार्यक्रम।सबमें उनकी एक विशिष्ठता ही उन्हें सबसे अलग व्यक्तिमत्व प्रदान करती है।

कृतित्व शैली :

                   अपनी अति व्यस्तता ओर उद्यमी जीवन शैली के बावजूद समाज के सभी कार्यक्रमों में समानुपातिक दायित्विक ज़िम्मेदारियों का निर्वाहण करने की अदम्य कार्यकुशलता ओर नेतृत्वशीलनता के कारण ही उनके अध्यक्ष कृतित्व को एक बेहत्तर समाजसेवी निरूपित करती है। समाज के कार्य हो या शैक्षणिक कार्यक्रम,रोज़गारमुखी प्रशिक्षण,या तकनीकी कौशल्य से जुड़े उद्यमी मार्गदर्शन। सब क्षेत्र में सबको आगे बढ़ाना ओर सबके विकास के प्रयास करना,ही उनकी सादगी की कृतित्वता सबको क़ायल कर देती है। आज समाज को ऐसे ही समाज सेवाभावी कर्तव्यनिष्ठ,कर्मयोगी,शुभचिंतक,सर्वहितैषी एवं मृदुभाषी नेतृत्व की ही आवश्यकता है।

कुशल उद्यमी :

                    समाज जगत हो या व्यापार जगत,शिक्षा जगत हो या राजनीतिक मंचीय गतिविधि । हर कार्य में बढ़-चढ़ समाज सहभाग उनके व्यक्तितत्व ओर कृतित्व को निखारते है। छोटा हो या बड़ा समाज से हो या गैर समाज से हर एक के प्रति समभाव,समदृष्टिकोण ओर सम मतैक्यता रखना उनकी दिनचर्या का अभिन्न अंग है। युवाओं को उद्यम -व्यापार के क्षेत्र में प्रोत्साहित कर आगे बढ़ाना तथा उनको एक सफल उद्यमी के रूप में स्थापित करने के लिये बैंक से ऋण सुविधा दिलवानें में प्रत्यक्ष -अप्रत्यक्ष सहयोग प्रदान करने के प्रति तत्परता उनको एक मुकम्मल समाजसेवी की पहचान के रूप में स्थापित करता है।

भविष्य कार्य संकल्प :

                  महाराष्ट्र किराड़ -किरात समाज संगठन के एक अनुभवी,क्षमताधिष्ठित,ऊर्जावान अध्यक्ष के रूप में समाज को उनसे जहां अनेक अपेक्षायें हैं वहीं वे स्वयं एक समाजसेवक के रूप में समाज के लियें अनेक कार्यों को करने की जीवटता से निर्मित “मील के पत्थर ” स्थापित करने के जज्बें से ओत-प्रोत भी है।श्री राजेशजी झाड़े ने संकल्पित होकर सदैव यह बात दोहराई है कि जहां -जहां महाराष्ट्र में किराड़ -किरात की समाज धर्मशालायें है उन्हें सर्व सुविधायुक्त बनवानें में जनसहयोग के साथ -साथ व्यक्तिगत्‌ रूप से आर्थिक मदद कर नई पीढ़ी के लिये एक मंच स्थापित करना,समज की विविध गतिविधि के लिये एक भव्य भूस्थल का आवंटन सरकारी स्तर पर प्राप्त करना,समाज के निर्धन ग़रीब,असहाय,कमज़ोर समाजबंधुओं के बच्चों को उचित तकनीकी प्रशिक्षण के अवसर निर्मित करना,उनके लिये “समाज आर्थिक सहायता कोष” बनाकर शिक्षण सामग्री वितरित करना,बेहद्‌ ज़रूरतमंद को एक निश्चित शिष्यवृति अनुदान राशी प्रदान करना, रोजगारोन्मुखी परामर्श मार्गदर्शन केन्द्र शिविर सतत्‌ आयोजित करना,महिलओं को आत्मनिर्भर बनाने कि दिशा में उचित एवं अपेक्षित उपक्रम आयोजित करना,संगठन में समाजसेवा के रूप में सबको सक्रिय दायित्विकता प्रदान करना,राष्ट्रीयस्तरीय युवक-युवती परिचय सम्मेलन आयोजन करना,समाज के ही सक्रिय समाज संगठनों के साथ मिलकर नवीन उपक्रम करना,समाज के वरिष्ठों को उनके सेवाकृत हर क्षेत्र से सम्मानीत करना,शिक्षक,किसान,उद्यमी,डाक्टर आदी- आदी क्षेत्र में सम्मानीत करना इनका प्रमुख उद्देश्य हैं। साथ ही,समझ की ही एक पत संस्था का निर्माण कर समाज के ही बेरोज़गार युवा युवक -युवतियों को सुलभ रोज़गार प्रदान का करना सबसे महत्वपूर्ण ध्येय भी है।